डाओ जोंस दरअसल अमेरिकी स्टॉक मार्केट है। डॉव जोन्स के अंतर्गत 30 बड़ी कंपनियों लिस्टेड हैं।

Dow Jones, S&P 500 और Nasdaq की जानकारी

बहुत से ट्रेडर्स अमेरिका के तीन प्रमुख स्टॉक मार्किट के इंडेक्स के बारे में नहीं जानते है. इन तीन इंडेक्स के बारे में जानना और और उनके बीच का अंतर हर ट्रेडर को मालूम होना आवश्यक है. रात में USA के स्टॉक मार्किट जिस दिशा में बंद होते है अकसर भारत के स्टॉक मार्किट सुबह को उसी दिशा में खुलते है. यदि अमेरिका के स्टॉक मार्किट ऊपर बंद होते है तो अगले दिन निफ्टी भी अकसर ऊपर की और जाने की कोशिश करता है और अगर अमेरिका के स्टॉक मार्किट नीचे बंद होते है तो अगले दिन निफ्टी में भी गिरावट आने के आसार होते है. सुबह सिंगापुर निफ्टी भी इसी के अनुसार खुलता है. करेंसी मार्किट और कमोडिटी मार्किट पर भी अमेरिका के स्टॉक इंडेक्स में हुई ट्रेडिंग का काफी असर पड़ता है. इस पोस्ट में मैं आपको इन तीनों के बीच का अंतर बताऊँगा.

Dow Jones Industrial Average को आम बोलचाल की भाषा में सिर्फ Dow (डाओ) के नाम से भी जाना जाता है. इसकी शुरुआत 1896 में हुई थी. इसमें अमेरिका की 30 सबसे बड़ी कंपनियों के शेयर होते है.

Nasdaq 100 (नैस्डेक) की शुरुआत 1985 में हुई थी. इसमें ज्यादातर टेक्नोलॉजी सेक्टर की कंपनियों के ही शेयर है. इसमें बैंकिंग और फाइनेंस आदि के शेयर नहीं के बराबर है. अगर आप इनफ़ोसिस, TCS, विप्रो आदि जैसी कंपनियों के शेयर में ट्रेडिंग करते है तो फिर आपको नैस्डेक पर ध्यान देना चाहिए.

S&P 500 की शुरुआत 1957 में हुई थी. इस इंडेक्स में 500 कंपनियों के शेयर्स है जो की हर सेक्टर से चुने जाते है. इसमें उन कंपनियों के स्टॉक्स होते है जिन कंपनियों की कुल वैल्यू लगभग 5 बिलियन डॉलर से ज्यादा होती है. चूँकि इसमें बहुत ज्यादा स्टॉक्स है इसलिए अकसर ट्रेडर्स S&P 500 को देख कर ही अमेरिका डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? के स्टॉक मार्किट में हुई हलचल का अंदाजा लगाते है. बहुत से ट्रेडर्स सिर्फ Dow इंडेक्स को देखते है जो की गलत है, आपको ज्यादा ध्यान S&P 500 इंडेक्स पर देना चाहिए.

ट्रेडिंग के लिहाज से भी S&P 500 में किसी एक कम्पनी का शेयर यदि बहुत ज्यादा उतर चढाव लेता है तो भी उसका S&P 500 के इंडेक्स पर ज्यादा नहीं पड़ता है. इसके साथ ही इसमें हर सेक्टर के शेयर होते है. फ्यूचर और आप्शन में ट्रेडिंग करने वाले लोग भी S&P 500 की कंपनियों पर लगी हुई पुट और कॉल की ओर ध्यान देते है. चूँकि S&P 500 की कंपनियों का काम पूरे विश्व में फैला हुआ है इसलिए यह इंडेक्स एक प्रकार से पूरे विश्व की आर्थिक स्थिति का भी अंदाजा देता है. हमारा निफ्टी भी S&P 500 के अनुसार ही उतार चढाव लेता है.

कई बार ऐसा होता है यह तीनों इंडेक्स अलग अलग चल रहे होते है, ऐसे में भी S&P 500 की ओर ध्यान दिया जाता है. Volatility भी S&P 500 को देख कर ही नापी जाती है. आप जब भी स्टॉक मार्किट में काम करे तो बीच बीच में S&P 500 इंडेक्स की ओर हमेशा ध्यान दे. इसके फ्यूचर हमेशा चलते रहते है और भारतीय समय के अनुसार सिर्फ रात में 3 बजे से सुबह 5 बजे के आसपास तक बंद रहते है, बाकी पूरा समय यह चलते रहते है. जब हमारा निफ्टी चल रहा होता है तो इसके फ्यूचर भी हमारे निफ्टी की दिशा तय करते है.

सेंसेक्स पहुंचा नए रिकॉर्ड ऊंचाई पर, जानें क्या हैं इस उछाल के पीछे 5 प्रमुख कारण

घरेलू बाजारों में देर रात की खरीदारी के बाद सेंसेक्स गुरुवार को अपने नई सर्वकालिक उच्च स्तर 62412.33 के स्तर पर पहुंच गया. इसके अलावा निफ्टी50 भी 216.85 अंक बढ़कर 18,484.10 अंक पर बंद हुई. लेकिन सवाल यह है कि आखिर बाजारों में इस बढ़ोत्तरी के मुख्य कारण क्या हैं.

नई दिल्ली: संभावित फेड धुरी पर आशावाद के एक नए दौर और मजबूत वैश्विक संकेतों ने दलाल स्ट्रीट बुल्स को एक बहुत बड़ा उछाल दिया है. घरेलू बाजारों में देर रात की खरीदारी से बीएसई बैरोमीटर सेंसेक्स गुरुवार को 62412.33 के नए सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया. 30-पैक इंडेक्स, जो लगभग 900 अंकों की इंट्राडे रैली करता है, 762.10 अंक या 1.24 प्रतिशत ऊपर चढ़कर 62,272.68 के अपने नए उच्च स्तर पर बंद हुआ.

इस बीच, इसका एनएसई समकक्ष, निफ्टी50, 216.85 अंक या 1.19 प्रतिशत बढ़कर 18,484.10 पर बंद हुआ. सूचकांक गुरुवार को पहले 52 सप्ताह के उच्च स्तर 18,529.70 पर पहुंच गया. बीएसई में सूचीबद्ध सभी शेयरों का बाजार पूंजीकरण 283.9 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाने से दलाल स्ट्रीट के निवेशक आज 2.46 लाख करोड़ रुपये के धनी हो गए. गुरुवार को बाजार की इस बढ़त के पीछे प्रमुख कारक इस प्रकार हैंः-

फेडरल रिजर्व दर वृद्धि में मंदी

फेडरल रिजर्व के नवीनतम मीटिंग मिनटों से पता चला है कि ज्यादातर नीति निर्माता ब्याज दरों में वृद्धि की धीमी गति की उम्मीद करते हैं, भले ही वे अनिश्चित हों कि बेंचमार्क दर कितनी ऊंची होगी. विश्लेषकों ने कहा कि फेडरल रिजर्व द्वारा छोटी दरों में बढ़ोतरी जोखिम वाली संपत्तियों के साथ-साथ सोने जैसी सुरक्षित निवेश वाली संपत्तियों के लिए भी सकारात्मक है.

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, 'व्यापक आधार पर खरीदारी की अगुवाई में घरेलू सूचकांकों में ठोस बढ़त देखी गई, क्योंकि निवेशकों ने एफओएमसी बैठक के नवीनतम मिनटों को डाइजेस्ट कर लिया, जिससे संकेत मिलता है कि दर वृद्धि चक्र धीमा हो सकता है.'

फर्म वैश्विक बाजार

इससे पहले एशियाई बाजारों में, जापान का निक्केई 225 0.95 प्रतिशत और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.96 प्रतिशत बढ़ा, जबकि चीन का शंघाई कंपोजिट 0.25 प्रतिशत गिरा. पिछले कारोबारी सत्र में अमेरिकी बाजार हरे निशान में बंद हुए थे. डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज 1.08 प्रतिशत, एसएंडपी 500 0.59 प्रतिशत और नैस्डैक कंपोजिट 0.99 प्रतिशत चढ़ा. थैंक्सगिविंग हॉलिडे के लिए गुरुवार को अमेरिकी बाजार बंद हैं.

कच्चे तेल की कीमतें

कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से निवेशकों की धारणा को और बल मिला. नायर ने कहा कि रूसी तेल की कीमतों पर संभावित सीमा और अमेरिकी उत्पादों के भंडार में बढ़ोतरी की बातचीत से कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आई है. ब्रेंट क्रूड वायदा 0.3 प्रतिशत गिरकर 85.13 डॉलर पर आ गया. अमेरिकी कच्चा तेल वायदा 0.2 प्रतिशत की गिरावट के साथ 77.74 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. वे बुधवार को 3 प्रतिशत से अधिक गिर गए थे, क्योंकि ग्रुप ऑफ सेवन (जी7) देशों ने मौजूदा बाजार स्तर से ऊपर रूसी तेल की कीमत कैप पर विचार किया था.

भारतीय रुपये की कीमत में इजाफा

भारतीय रुपया पिछले सत्र में 81.8450 से बढ़कर 81.63 अमेरिकी डॉलर हो गया, अमेरिकी डॉलर में डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? व्यापक गिरावट के बीच फेडरल रिजर्व मिनट्स ने दर वृद्धि की गति में गिरावट की उम्मीदों की फिर से पुष्टि की.

मासिक F&O एक्सपायरी

कारोबारियों द्वारा शॉर्ट कवरिंग के कारण भी खरीदारी में तेजी आई, क्योंकि आज मौजूदा महीने की डेरिवेटिव एक्सपायरी सीरीज का आखिरी दिन था.

What is DJI full form? | DJI kya hai

The DJI full form is "Dow डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? Jones Industrial Average".

Hindi Language

'डीजेआई' का पूर्ण रूप क्या है?

'डीजेआई' का फुल फॉर्म "डाउ जोन्स औद्योगिक औसत" है।

Bengali Language

'ডিজি'-এর পূর্ণরূপ কী?

'ডিজি' এর পূর্ণরূপ হল "ডাউ জোন্স শিল্প গড়"।

Marathi Language

डीजेआय चे पूर्ण नाव काय आहे?

'डीजेआय' पूर्ण फॉर्म "डो जोन्स औद्योगिक सरासरी" आहे.

Telugu Language

'DJI' పూర్తి రూపం ఏమిటి?

'DJI' పూర్తి రూపం "డౌ జోన్స్ పారిశ్రామిక సగటు".

Tamil Language

'டி.ஜே.ஐ.' என்பதன் முழு வடிவம் என்ன?

'டி.ஜே.ஐ.' முழு வடிவம் "டவ் ஜோன்ஸ் தொழில்துறை சராசரி".

Gujarati Language

'અણી' નું પૂરું નામ શું છે?

'અણી'નું પૂર્ણ સ્વરૂપ "ડાઉ જોન્સ Industrial દ્યોગિક સરેરાશ" છે.

Urdu Language

'ڈی جے آئی' کی مکمل شکل کیا ہے؟

'ڈی جے آئی' کا مکمل فارم "ڈاؤ جونز صنعتی اوسط" ہے۔

Chinese Language

“DJI”的完整形式是什麼?

“DJI”的完整形式是“道瓊斯工業平均”。

Spanish Language

¿Cuál es la forma completa del 'Dji'?

El formulario completo de 'Dji' es "Promedio industrial de Dow Jones".

US Stock मे कैसे Invest करे? US Stock Market Hindi में

us stocks me kaise invest kre hindi

नमस्कार!! दोस्तों इस आर्टिकल के जरिये जानेगे कि US Stocks क्या होते हैं, US Stocks में हम India में रह कर कैसे Invest कर सकते हैं और US Stocks में Investment करने के लिए कौन सा Application Best रहेगा जिससे आप US Stocks में बहुत ही आसानी से Trading कर पाए

और अगर आपको कुछ भी Doubt होता है तो आप हमे Comment Section के जरिये पूछ सकते हैं

जेसे हम India के share Market मे invest करते है वैसे बहुत सारे लोग सोचते है की हम International या जो हम Facebook, Netflix, Apple, Google का use करते है तो कैसे हम इसमे invest करे?

इस पोस्ट मे हम US stock market के बारे मे जानेगे की कोनसे index होते है, कोन से Stock Exchanges है ओर वो केसे कम करते है, ओर India से केसे अलग है वो जानेगे साथ मे केसे ओर कितना invest करना चाहिए ओर साथ मे US share मे invest करने के फायदे क्या है?

US Share Market Timing

How to invest in us market from INDMoney

लेकिन यहाँ आप Groww की Website के जरिये US Stocks में Invest कर सकते हैं App में ये Function अभी Enable नहीं हुआ हैं..

    ये भी काफी बढ़िया एक App है जिसके जरिये आप US Stocks में पैसे डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? Invest कर सकते हैं साथ ही इंडिया के शेयर बॉन्ड्स, म्यूचुअल फंड सब में invest कर सकते है।

तो ये था Basic US share market का ओर अगर आपको US Share मे Invest करना है तो ये जानकारी होनी चाहिए जिससे आप अच्छे स्टॉक आसानी से select कर पाओ।

क्या है Dow Jones जिसकी वजह से डूबे भारतीय निवेशकों के 10 लाख करोड़ रुपये

डाओ जोंस दरअसल अमेरिकी स्टॉक मार्केट है। डॉव जोन्स के अंतर्गत 30 बड़ी कंपनियों लिस्टेड हैं। शेयर मार्केट में आई इस सुनामी के पीछे छुपे कई कारणों में से एक डाव जोन्स हैं ।

क्या है Dow Jones जिसकी वजह से डूबे भारतीय निवेशकों के 10 लाख करोड़ रुपये

डाओ जोंस दरअसल अमेरिकी स्टॉक मार्केट है। डॉव जोन्स के अंतर्गत 30 बड़ी कंपनियों लिस्टेड हैं।

शेयर बाजार लगातार गिर रहा है, निवेशक लगातार घाटे में जा रहे हैं, हर सेकेंड करोड़ों का नुकसान हो रहा है। निवेशक शेयर बाजार की इस स्थिति के सामन्य होने की प्रर्थना कर रहे हैं। शेयर मार्केट में आई इस सुनामी के पीछे छुपे कई कारणों में से एक डाव जोन्स हैं । हम आपको बतातें हैं कि आखिर क्या है ये डॉव जोन्स जिसने ना सिर्फ भारतीय बल्कि दुनियाभर के निवेशकों की जान मुश्किल में डाल दी है।

क्या है डाओ जोन्स

Adani-NDTV Deal: प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? एनडीटीवी डायरेक्‍टर पद से दिया इस्तीफा, शेयर में लगा अपर सर्किट

Defence Stocks: मजबूत ऑर्डर बुक के चलते रक्षा कंपनियों की डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज क्या है? बढ़ेगी कमाई, BEL और HAL समेत ये शेयर करेंगे आउटपरफॉर्म

Drishyam-2 ने बॉलीवुड बॉक्‍स ऑफिस को दिया बूस्‍ट, PVR और INOX की हो सकती है रीरेटिंग, शेयर में तेजी का अनुमान

डाओ जोंस दरअसल अमेरिकी स्टॉक मार्केट है। डॉव जोन्स के अंतर्गत 30 बड़ी कंपनियों लिस्टेड हैं। साथ ही इन बड़ी कंपनियों के शेयर का रेट पता चलता है। बहरहाल सोमवार को डॉव जोन्स 1175 अंको की गिरावट के साथ 24345 अंकों पर बंद हुआ था। 2011 के बाद अमेरिकी शेयर मार्केट में सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली। क्योंकि भारतीय स्टॉक मार्केट कुछ हद तक अमेरिकी स्टॉक मार्केट से प्रभावित रहता है, इसलिए अमेरिकी स्टॉक मार्केट में आए इस भूकंप के झटके भारतीय स्टॉक मार्केट में भी महसूस हुए हैं।

डॉओ जोन्स के अंदर लिस्टेड हैं ये कंपनियां

डॉओ जोन्स में भी भारतीय सेंसेक्स की तरह 30 कंपनियां लिस्टेड हैं। जो 30 कंपनियां डॉओ जोन्स के अंदर लिस्टेड हैं उनके नाम कुछ इस तरह से हैं, नाइक, माइक्रोसॉफ्ट, एपल, बोइंग, 3एम, अमेरिकन एक्सप्रेस, कैटरपिलर, शेवरॉन, सीस्को, कोका-कोला, डिजनी,डॉवजू पॉन्ट, एक्सन मोबिल, जनरल इलेक्ट्रिक, गोल्डमैन, होम डिपो, आइबीएम, इंटेल, जॉनसन एंड जॉनसन, जेपी मॉर्गन चेज, मैकडॉन्लड, मर्क, पीफाइजर, प्रॉक्टर एंड गैंबल, ट्रैवलर कंपनीज, यूनाइटेड टेक्नोलॉजी, यूनाइटेड हेल्थ, वेरिजॉन, वीजा औऱ वॉलमार्ट।

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

रेटिंग: 4.37
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 264