एएमपी कैपिटल ने स्टरलाइट पावर से किया समझौता

सिडनी स्थित एएमएपी कैपिटल ने भारत में 1 अरब डॉलर लागत से बिजली पारेषण परियोजनाओं के विकास के लिए स्टरलाइट पावर के साथ समझौता किया है। इस समझौते के तहत एक उद्यम की स्थापना की जाएगी। स्टरलाइट पारेषण क्षेत्र की एक अग्रणी निजी कंपनी है। एएमपी कैपिटल का भारत में इस तरह का यह पहला पूंजी निवेश है। इस उद्यम में दोनों कंपनियों की आधी-आधी हिस्सेदारी होगी और प्रत्येक 15 करोड़ डॉलर निवेश करेंगी। इस उद्यम की की मौजूदा परियोजनाओं में स्टरलाइट पावर की चार निर्माणाधीन परियोजनाएं हैं, जो मुख्यत: अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं से संबंधित हैं। इन चार परियोजनाओं के मौजूदा वित्त पोषण के साथ इस प्लेटफॉर्म के लिए कुल पंूजीगत आवंटन 1 अरब डॉलर हो जाता है।

स्टरलाइट ने एक बयान जारी कर कहा कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता इन परियोजनाओं की पारेषण लाइन की लंबाई करीब 1,800 किलोमीटर है, जो पश्चिमी, दक्षिणी और देश के पूर्वोत्तर क्षेत्रों में है। एएमपी कैपिटल में भारत प्रमुख (इन्फ्रास्ट्रक्चर इक्विटी) शरत गोयल ने बिजनेस स्टैंडर्ड को बताया कि पारेषण क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता एएमपी कैपिटल के लिए काफी संभावनाएं हैं। गोयल ने कहा, ‘हम ढांचागत क्षेत्र में लंबे समय से अवसर तलाश रहे हैं। हमें लगता है कि पारेषण क्षेत्र में काफी अवसर उपलब्ध हैं। एएमएपी जैसी निवेशकों के लिए यहां पूंजी निवेश के लिए भरपूर अवसर मौजूद हैं।’

उन्होंने कहा कि पारेषण खंड में मौजूद संभावनाओं का पूर्ण इस्तेमाल नहीं हो पाया हैं और कुछ ही निवेशकों ने इसमें निवेश करने में अब तक दिलचस्पी दिखाई है। उन्होंने कहा, ‘पारेषण के लिए हमें एक अनुभवी साझीदार की तलाश थी। स्टरलाइट पावर ने परियोजनाओं के क्रियान्वयन में श्रेष्ठïता का परिचय दिया है। वित्तीय स्तर पर नए प्रयोग से हम आपस में सहयोग करेंगे और इस खंड में निवेश करेंगे।’ स्टरलाइट पावर के प्रबंध निदेशक प्रतीक अग्रवाल ने कहा कि मौजूदा परियोजनाएं पर्यावरण, सामाजिक एवं निगमित संचालन (ईएसजी) से संबंधित हैं। अग्रवाल ने कहा कि इनकी ज्यादातर क्षमता अक्षय ऊर्जा उत्पादन में इस्तेमाल होगा।

इस प्लेटफॉर्म के तहत सभी परियोजनाएं क्रियान्वयन के चरण में हैं और अगले 12 से 30 महीनों में इनकी शुरुआत हो जाएगी। अग्रवाल ने बिजनेस स्टैंडर्ड को बताया कि इन परियोजनाओं के अलावा एएमपी और स्टरलाइट भविष्य में सभावनाएं तलाशने के लिए भी सिद्धांत रूप से समझौता किया है।

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और व्यापार कानून में कानून के मास्टर Taylor’s University

Taylor’s University

एक एलएलएम आपके क्षितिज को व्यापक बनाने अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता और कई तरह से अपना करियर विकसित करने में मदद कर सकता है। एक अभ्यास वकील या बैरिस्टर के लिए, अंतरराष्ट्रीय व्यापार और व्यापार कानून में कानून के इस मास्टर आप अपने क्षेत्र में गहराई से विशेषज्ञ ज्ञान के साथ बाहर खड़ा करने में मदद करता है जिसे कई लोगों के बाद मांगा जाता है। हमारे मास्टर कार्यक्रम की संभावना आपके कैरियर की दिशा बदलने या अपनी नौकरी के दायरे का विस्तार करने में मदद मिलेगी। हमारे स्नातकोत्तर कार्यक्रम को पूरा करने से आप अपने वर्तमान भूमिका में कानूनी तौर पर संबंधित कार्यों को लागू कर सकते हैं।

निम्नलिखित विशिष्ट क्षेत्रों में अब आपके लिए खुले हैं:

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और व्यापार कानून

यह कार्यक्रम हमारे स्नातक छात्रों को विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) जैसे अंतरराष्ट्रीय कानूनों और संस्थानों के प्रभाव की एक उन्नत और गहन समझ से लैस करेगा, साथ ही विश्व स्तर पर व्यावसायिक गतिविधियों के विनियमन के कानूनी नियम भी तैयार करेगा। Taylor's University में इस कार्यक्रम को पूरा करके, स्नातक पूरी तरह से तैयार और वरिष्ठ प्रबंधकों के साथ ही कानूनी चिकित्सकों के लिए वर्तमान और इच्छुक मध्यस्थों के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने में सक्षम होंगे।

कौन लागू होगा?

  • निजी या घर के अभ्यास में वकील
  • व्यापार मालिकों को अंतरराष्ट्रीय व्यापार, व्यावसायिक लेनदेन और व्यापार कानून के कानूनी कामकाज को बेहतर ढंग से समझने के लिए।
  • ताजा स्नातक जो इन क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धी नौकरियों को सुरक्षित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार और व्यापार कानून में गहराई से ज्ञान और विशेषज्ञता के साथ खुद को तैयार करना चाहते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और व्यापार कानून में एलएलएम प्राप्त करने के लिए, छात्रों को निम्नलिखित मॉड्यूल को पूरा करना होगा

खाद्य एवं कृषि व्यवसाय प्रबंधन

प्रारंभ से ही, आईआईएमएल का दृष्टिकोण युवा ऊर्जावान प्रबंधकों एवं उद्यमियों को विकसित करना था, जो कॉरपोरेट तथा गैर-कॉर्पोरेट क्षेत्र जैसे कृषि दोनों के प्रदर्शन में सुधार में सक्षम हों। इस वचनबद्धता को विशेष रूप से पूरा करने के उद्देश्य से संस्थान ने वर्ष 1998 में खाद्य एवं कृषि व्यवसाय प्रबंधन (सीएफएएम) की स्थापना की। सीएफएएम कृषि व्यवसाय एवं खाद्य प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्ट केन्द्र के रूप में वैश्विक स्तर पर उभरा है। यह केंद्र कृषि के साथ व्यापार को एकीकरण के माध्यम से कृषि एवं अन्य ग्रामीण संसाधनों के पेशेवर प्रबंधन में तेजी लाने का प्रयास करता है।

खाद्य एवं कृषि व्यवसाय प्रबंधन केंद्र का मुख्य उद्देश्य है:

  • युवा व ऊर्जावान स्नातकों अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता और उद्यमियों को तैयार करके खाद्य तथा कृषि व्यवसाय क्षेत्र के कुशल प्रबंधन के लिए ज्ञान सृजन करना;
  • राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय शैक्षिक संस्थानों के साथ-साथ संगठनों तथा एजेंसियों के बीच प्रभावी संबंधों के माध्यम से फील्ड आधारित शोध द्वारा समर्थित उच्च स्तरीय व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान करना; तथा
  • कृषि एवं ग्रामीण प्रबंधन के क्षेत्र में राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय संगठनों को परामर्श की पेशकश करना।

सीएफएएम की प्रमुख गतिविधियां

शिक्षण

कृषि व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर कार्यक्रम (पीजीपी-एबीएम) दो वर्षीय पूर्णकालिक आवासीय कार्यक्रम है। खाद्य अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता एवं कृषि व्यवसाय पर केन्द्रित इस कार्यक्रम की शुरुआत वर्ष 2004-05 में की गई थी। सशक्त अंतरराष्ट्रीय उन्मुखता वाला यह कार्यक्रम कृषि एवं संबंधित क्षेत्र से जुड़े विश्वविद्यालय तथा कॉलेज के स्नातकों के लिए खुला है।

हमारे पीजीपी-एबीएम में निम्नलिखित नवोन्मेषी विशेषताएं हैं:

  • गैर-कृषि शिक्षा पृष्ठभूमि वाले छात्रों के लिए कृषि एवं संबद्ध क्षेत्र पर एक फाउंडेशन कोर्स।
  • प्रथम वर्ष में कृषि के साथ प्रबंधन के कार्यात्मक क्षेत्रों पर विभिन्न महत्वपूर्ण फाउन्डेशन कोर्स तथा द्वितीय वर्ष में ग्रामीण संदर्भ आधारित महत्वपूर्ण कोर्स।
  • कार्य विधि सिखने व व्यक्तिगत अनुभव के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रीय दौरा।
  • अंतरराष्ट्रीय विनिमय कार्यक्रम एवं उद्योग साझेदारी के माध्यम से वैश्विक मानदंड मापन।

कृषि व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर कार्यक्रम (पीजीपी-एबीएम)

कृषि व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर कार्यक्रम (पीजीपी-एबीएम) एक पूर्णकालिक दो वर्षीय आवासीय प्रबंधन शिक्षा कार्यक्रम है। यह खाद्य एवं कृषि व्यवसाय क्षेत्र पर केंद्रित है। एक मजबूत अंतर्राष्ट्रीय अभिविन्यास वाला कार्यक्रम, विश्वविद्यालय और कॉलेज के स्नातकों के लिए कृषि और कृषि क्षेत्र से संबंध रखने के लिए खुला है। सशक्त अंतरराष्ट्रीय उन्मुखता वाला यह कार्यक्रम कृषि एवं संबंधित क्षेत्र से जुड़े विश्वविद्यालय तथा कॉलेज के स्नातकों के लिए खुला है।

नवोन्मेषी विशेषताएं

  • गैर-कृषि शिक्षा पृष्ठभूमि वाले छात्रों के लिए चार सप्ताह का गहन प्राथमिक कार्यक्रम।
  • प्रथम वर्ष में कृषि के साथ प्रबंधन के कार्यात्मक क्षेत्रों पर विभिन्न महत्वपूर्ण फाउन्डेशन कोर्स तथा द्वितीय वर्ष में ग्रामीण संदर्भ आधारित महत्वपूर्ण कोर्स।
  • कार्य विधि सिखने व व्यक्तिगत अनुभव के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रीय दौरा।
  • वैश्विक मानदंड एवं उद्योग साझेदारी

अनुसंधान

सीएफएएम कृषि व्यवसाय एवं खाद्य उद्योग के घरेलू तथा वैश्विक प्रबंधन को सार्थक रूप से प्रभावित करने के लिए मौलिक व नवोन्मेषी शोध परियोजनाएं संचालित करता है। केंद्र ने कृषि व्यवसाय तथा खाद्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के साथ मजबूत संबंध स्थापित किए हैं। इस केन्द्र ने विभिन्न शोध परियोजनाएं में साझेदीरी की है।

प्रशिक्षण

यह केंद्र भारत से लेकर विदेशों तक के व्यापार व नीति निर्माताओं को आवश्यक दृष्टिकोण तथा कौशल प्रदान करने के लिए सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के लिए लघु अवधि के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला आयोजित करता है। कृषि व्यवसाय तथा ग्रामीण विकास अंतर्राष्ट्रीय व्यापार परामर्शदाता पर एशियाई और अफ्रीकी देशों के प्रतिभागियों के लिए विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं।

परामर्श

परामर्श केंद्र की प्रमुख गतिविधि में से एक, देश और विदेशों में स्थित विभिन्न कॉर्पोरेट तथा गैर-कॉर्पोरेट कृषि व्यवसाय व खाद्य संगठन की समस्याओं को हल करना है। एबीएम विभिन्न क्षेत्रों में फैले परियोजनाओं की निगरानी, मूल्यांकन और प्रभाव मूल्यांकन के क्षेत्रों में परामर्श परियोजनाओं की जिम्मेदारी लेता है। इससे संबंधित विभिन्न क्षेत्र: ग्रामीण विपणन; कृषि व्यापार; वस्तु व्यापार और भविष्य के बाजार; सूक्ष्म वित्त और सूक्ष्म क्रेडिट; कृषि व्यवसाय प्रबंधन शिक्षा; कृषक बाजार संबंध; आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन इत्यादि हैं। इस केंद्र ने विश्व बैंक, आईसीएआर; कृषि मंत्रालय (जीओआई); विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (जीओआई); के साथ ही विभिन्न राज्य सरकारों को परामर्श प्रदान करने का कार्य किया है।

Error.

Website Content Managed by Department of Agriculture & Farmers Welfare | MoA&FW | GoI
Designed and Developed by DAD/IT, Ministry of Agriculture, New Delhi.

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 232