सर्वे के जवाब देना

Google Opinion Rewards की मदद से, आप ऐसे सर्वे में भाग ले सकेंगे जो मार्केट पर रिसर्च करने वाले लोग चलाते हैं. सर्वे कितने-कितने समय में होंगे वह तय नहीं होता और यह ज़रूरी नहीं कि आपको मिलने वाले हर सर्वे का जवाब दें. इसके बदले में, हम आपको आपकी राय शेयर करने के लिए इनाम देंगे. नीचे, हमने हमारे सर्वे में भाग लेने के बारे में कुछ सामान्य सवालों के जवाब दिए हैं.

आम तौर पर, सर्वे कभी भी दिए जा सकते हैं. झूठ बोलने वाले या सिस्टम के साथ चालाकी करने वाले उपयोगकर्ताओं का पता लगाने के लिए, हम कई तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं. अगर मार्केट रिसर्च कैसे करें? हमें लगता है कि आप सर्वे के जवाब ईमानदारी से नहीं दे रहे हैं, तो आपको कम सर्वे मिलेंगे. इसलिए, अपनी आय बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप ईमानदारी से जवाब दें.

ज़रूरी नहीं कि आपको भेजने के लिए, सर्वे हमारे पास हमेशा हो. आम तौर पर, सर्वे कभी भी दिए जा सकते हैं और यह हमारी मौजूदा इन्वेंट्री से तय होता है.

इसके अलावा, झूठ बोलने वाले या सिस्टम के साथ चालाकी करने वाले उपयोगकर्ताओं का पता लगाने के लिए, हम कई तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं. अगर हमें लगता है कि आप सर्वे के जवाब ईमानदारी से नहीं दे रहे हैं, तो आपको कम सर्वे मिलेंगे. इसलिए, अपनी आय बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप ईमानदारी से सटीक और पूरे जवाब दें.

सर्वे के दूसरे सवालों के जवाब देने या न देने का विकल्प, उपयोगकर्ताओं के पास हमेशा होता है. अगर आप दिए गए सवाल का जवाब नहीं देना चाहते, तो आप अपनी 24 घंटे वाली विंडो के खुले रहने तक उसे अनदेखा कर सकते हैं और दूसरे सर्वे के सवाल मिलने का इंतज़ार कर सकते हैं.

हां, आम तौर पर सर्वे की समय सीमा 24 घंटे में ख़त्म हो जाती है. अगर आपने सर्वे शुरू कर लिया है और उसके ख़त्म होने के समय आप ऑफ़लाइन हो जाते हैं, तो ऑनलाइन होने पर आपको सूचित किया जाएगा कि सर्वे आपके जवाब देने के लिए तैयार है. हालांकि, अगर आपके वापिस ऑनलाइन आने पर सर्वे की समय सीमा खत्म हो जाती है, तो आप उस सर्वे में जवाब नहीं दे पाएंगे और न ही इनाम मिलेगा.

ऐप्लिकेशन या किसी खास सर्वे के बारे में Google Opinion Rewards टीम को सुझाव भेजने के लिए, ऐप्लिकेशन के ऊपर बाईं ओर मौजूद मेन्यू बटन पर टैप करके फ़ीडबैकपर टैप करें.

कृपया ध्यान दें कि उत्पाद को बेहतर बनाने और उनके बदलावों की समीक्षा के दौरान सुझाव की निगरानी की जाती है और उस पर विचार किया जाता है. हो सकता है कि हमें मिले हर सुझाव का हम जवाब न दें, लेकिन हम आपको नई सुविधाओं के बारे में किसी भी समस्या या अनुरोध को शामिल करने की सलाह देते हैं. दूसरे सर्वे के अनुरोध पर विचार नहीं किया जाएगा. हम आपको ज़्यादा से ज़्यादा मुमकिन हो उतने सर्वे भेजने की कोशिश करते हैं!

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट (Market Research Analyst) कैसे बनें?

नमस्कार! आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि मार्किट रिसर्च एनालिस्ट (Market Research Analyst) कैसे बनें? यहां बता दें कि जब भी कोई नया बिजनेस या प्रोडक्ट कराया जाता है तो उसके लिए मार्केट रिसर्च करना बहुत जरूरी होती है जिसको केवल वही कैंडिडेट कर सकता है जिसको इस क्षेत्र के बारे में सारी जानकारी होती है।

वैसे यहां बता दें कि इस फील्ड में किसी भी व्यक्ति को सफलता केवल तभी मिलती है जब उसे मार्केट रिसर्च एनालिस्ट से जुड़ी हुई सभी बातों की अनिवार्य जानकारी होती है। परंतु इस इंडस्ट्री में काम करने के लिए कैंडिडेट को मार्केट से संबंधित सारी बातों का पता होना चाहिए और अगर आप भी एक ऐसे छात्र हैं जो 12वीं के बाद मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बनने में रुचि रखते हैं तो हमारे आज के इस आर्टिकल को सारा पढ़े और जानें कि आप किस प्रकार से मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बन सकते हैं।

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट क्या होता है (what is Market Research Analyst in Hindi)

यहां आपको बता दें कि मार्केट रिसर्च एनालिस्ट एक ऐसा प्रोफेशनल होता है जिसका काम किसी भी नए प्रोडक्ट को बाज़ार में लाने से पहले उसके बारे में सभी जानकारी हासिल करनी होती है जैसे कि जिस क्षेत्र में वह प्रोडक्ट लाया जा रहा है वहां पर उसकी खपत कितनी है एवं उस मार्केट में उस उत्पाद की बिक्री कितनी हो सकती है।

इसीलिए जब भी कोई कंपनी अपने नए प्रोडक्ट को मार्केट में लाती है तो सबसे पहले उसका मार्केट रिसर्च कराती है ताकि बाजार में होने वाले सभी प्रकार के बदलाव के बारे में भी सारी जानकारी सही तरीका से प्राप्त हो सके।

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट बनने के लिए प्रक्रिया क्या है

जो कैंडिडेट मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बनना चाहते हैं उनको सबसे पहले बारहवीं कक्षा गणित जैसे विषय के साथ पास करनी होगी और उसके बाद छात्र को चाहिए कि वह मैथमेटिक्स , कंप्यूटर साइंस , मार्केट रिसर्च जैसे विषयों में अपना ग्रेजुएशन करें। यहां बता दें कि हमारे देश में मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बनने के लिए बहुत सारे संस्थानों में कोर्स करवाए जाते हैं जहां से छात्र अपना कोर्स मार्केट रिसर्च एनालिस्ट की फील्ड में कर सकते हैं।

योग्यता

  • इच्छुक उम्मीदवार ने किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से मार्केटिंग एंड फाइनेंस में बीबीए की डिग्री हासिल की हो।
  • या फिर कैंडिडेट ने बीकॉम किया होना चाहिए।
  • या उम्मीदवार ने बीएससी की डिग्री ले रखी हो।
  • कैंडिडेट को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है।
  • उम्मीदवार वार्तालाप में निपुण होने के साथ-साथ रचनात्मक प्रवृत्ति का होना चाहिए।

आयु सीमा

जो छात्र मार्किट रिसर्च एनालिस्ट बनना चाहते हैं उन्हें यहां जानकारी के लिए बता दें कि कैंडिडेट की आयु कम से कम 20 साल होनी चाहिए और इसके लिए किसी भी तरह की अधिकतम आयु सीमा नहीं रखी गई है जिसकी वजह से कोई भी व्यक्ति इस क्षेत्र में किसी भी उम्र तक अपना कैरियर बना सकता है।

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट बनने के कैरियर संभावनाएं क्या है

मार्केट रिसर्च एनालिस्ट के तौर पर काम करने वाले लोगों को नौकरी करने के निजी और सरकारी अवसर प्राप्त होते हैं। यहां बता दें कि प्राइवेट सेक्टर के अलावा मार्केट रिसर्च कैसे करें? सरकार को भी सरकारी नीतियों, योजनाओं एवं मुद्दों के बारे में भी पब्लिक की राय जानने के लिए मार्केट रिसर्च करवाना पड़ता है जिसके लिए उन्हें मार्केट रिसर्चर की आवश्यकता होती है। इसके अलावा शिक्षा संस्थानों , मार्केटिंग संगठनों , और मल्टीनेशनल कंपनियों में भी मार्केट रिसर्च एनालिस्ट की जरूरत पड़ जाती है।

वेतन

आप यहां आपको जानकारी दे दें कि जो व्यक्ति मार्केट रिसर्च एनालिस्ट के रूप में काम करते हैं उन्हें हर महीने शुरुआत में 25 , 000 से लेकर 35 , 000 तक का सैलरी पैकेज मिल जाता है। इस तरह से कुछ वर्षों का अनुभव हासिल करने के बाद कैंडिडेट को 1 लाख से भी ज्यादा का वेतन मिल सकता है जो कि पूरी तरह से उसकी मेहनत, लगन और योग्यता के ऊपर निर्भर करता है।

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट के कार्य

मार्किट रिसर्च एनालिस्ट के तौर पर काम करने वाले व्यक्ति के सामने बहुत सारी चुनौतियां होती हैं जिन्हें उसको सफलतापूर्वक तरीके से पूरा करना होता है जो कि इस प्रकार से है –

  • किसी भी नए प्रोडक्ट के बारे में रिसर्च करना।
  • ग्राहक की जरूरत को समझते हुए उसके उत्पाद के बारे में जानकारी देना।
  • किसी प्रोडक्ट या फिर सर्विस के बारे में फीडबैक जुटाते हैं।
  • बाजार में लाए जाने वाले नए उत्पाद की बिक्री , कीमत, डिस्ट्रीब्यूशन इत्यादि के बारे में भी जानकारी जमा करते हैं।
  • फील्ड सर्वे कराने का काम करते हैं।
  • जिस क्षेत्र में कोई नया प्रोडक्ट लॉन्च होता है उस प्रोडक्ट से संबंधित सारी जानकारी जमा करते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों यह था हमारा आज का आर्टिकल मार्किट रिसर्च एनालिस्ट (Market Research Analyst) कैसे बनें? इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि मार्केट रिसर्च एनालिस्ट क्या होता है और उसके लिए किसी भी छात्र में कितनी योग्यता होनी आवश्यक है।

इसके साथ-साथ हमने आपको यह जानकारी भी दी कि मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बनने के लिए पूरी प्रक्रिया क्या होती है और जब कोई कैंडिडेट इस पद पर काम करने लगता है तो तब उसे हर महीने कितने रुपए तक का सैलरी पैकेज मिल जाता है। साथ ही साथ हमने इस लेख के द्वारा आपको यह जानकारी भी दी कि जब कोई कैंडिडेट मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बन जाता है तो उसे कौन-कौन से कार्य करने होते हैं।

वैसे यहां अगर देखा जाए कि अगर किसी व्यक्ति को सर्वे, फील्ड वर्क और एनालिटिकल मार्केट रिसर्च कैसे करें? कार्य करने पसंद होते हैं तो वह इस क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकता है। अंत में हम आपसे यही कहेंगे कि अगर आपको हमारे द्वारा प्रदान की गई सारी जानकारी उपयुक्त लगी हो तो इसे अपने उन दोस्तों के साथ ही जरूर शेयर करें जो 12वीं के बाद मार्केट रिसर्च एनालिस्ट बनना चाहते हैं।

Career Selection: मार्केट रिसर्च एनालिस्ट में कैसे बनाएं करियर. यहां जानें कोर्स और जॉब की पूरी डिटेल्स

Market Research Analyst Good Career: अगर आप भी मार्केट एनालिस्ट के तौर पर अपना करियर शुरू करना चाहते हैं, तो हम आपको मार्केट एनालिस्ट करियर के बारे में इस लेख के माध्‍यम से पूरी जानकारी देंगे।

Career Selection After Board Exam: बोर्ड परीक्षा के परिणाम (Board Exam Result) घोषित होते ही छात्र स्कूल से कॉलेज (School To Collage) का रूख करने लगते हैं। इस संक्रमण में पहला कदम करियर का चुनाव (Career Selection) करना है। सही पेशेवर रास्ता चुनने में आपकी मदद करने के लिए हम एक अनूठा करियर और एक रोडमैप लाएं, जो आपको उस पेशे में नौकरी लेने में मदद कर सके, जहां आपकी नॉलेज अच्छी हो।

मार्केटिंग उत्कृष्टता (Marketing excellence) सही मार्केटिंग निर्णयों का परिणाम (right marketing decisions) है और सही मार्केटिंग निर्णय तभी लिए जाते हैं, जब वे सही जानकारी पर आधारित हों। मार्केट रिसर्च (MR) उपभोक्ता व्यवहार, बाजार में रुझान, बाजार में मांग (Market Demand), उत्पादों / ब्रांडों पर शोध (Products Brand), चैनल प्रदर्शन, विज्ञापन के प्रभाव (Advertisement), मूल्य निर्धारण निर्णय, प्रचार प्रयासों और ऐसी कई संबंधित गतिविधियों में अमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।

ये कंपनी को ग्राहकों को बेहतर सेवा देने में सक्षम बनाती हैं। जब व्यवसायों को समग्र रूप से उद्योग की पूरी समझ होती है, तो वे सफल उत्पादों को डिजाइन करने में सक्षम होते हैं और उन ग्राहकों के प्रकारों की पहचान करते हैं जो किसी दिए गए मूल्य पर उन उत्पादों को खरीदने की सबसे अधिक संभावना रखते हैं। कुछ सामान्य एमआर तकनीकों में सर्वेक्षण, गहन साक्षात्कार, पैनल चर्चा, फोकस समूह चर्चा, अवधारणात्मक मानचित्रण, जीवन शैली अध्ययन, प्रेरक अनुसंधान और बाजार के सांख्यिकीय विच्छेदन शामिल हैं। एमआर विशेषज्ञ प्रतियोगी अनुसंधान और विश्लेषण के क्षेत्रों में ज्ञान का खजाना भी योगदान करते हैं।

बाजार शोधकर्ता कभी-कभी व्यवसायों के लिए सलाहकार के रूप में काम करते हैं। कुछ नए पास-आउट एक संगठन के विपणन अनुसंधान में शामिल होते हैं, जहां वे कंपनी के माल के बारे में प्रचार करते हुए विपणन विभाग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाते हैं।

एक बाजार अनुसंधान विश्लेषक की जिम्मेदारियां (RESPONSIBILITIES OF A MARKET RESEARCH ANALYST)

हालांकि एक बाजार विश्लेषक की विशिष्ट जिम्मेदारियां एक संगठन से दूसरे संगठन में थोड़ी भिन्न हो सकती हैं। सामान्य तौर पर निम्नलिखित जिम्मेदारियां शामिल होती हैं।

  • सर्वेक्षण, चुनाव, फोकस समूह और प्रश्नावली जैसे सूचना एकत्र करने के नए तरीकों का निर्माण एवं मूल्यांकन करें।
  • एक सांख्यिकीय कार्यक्रम के माध्यम से डेटा चलाएं।
  • सांख्यिकीय सारणियों और रिपोर्टों का उपयोग करते हुए अर्जित आंकड़ों को समझें।
  • एग्जीक्यूटिव और क्लाइंट द्वारा अनुरोधित जानकारी के चार्ट, ग्राफ़ और अन्य दृश्य प्रस्तुतीकरण के उपयोग के साथ उत्पाद रिलीज़, पुनरावृत्त परिवर्तन और मार्केटिंग रणनीतियों के संबंध में डेटा-संचालित निर्णय लें।
  • बाजार और प्रतिस्पर्धियों की विस्तृत तस्वीर बनाकर कंपनियों को यह अनुमान लगाने में मदद करें कि उनके उत्पाद कितना अच्छा प्रदर्शन करेंगे।
  • जांच कि मार्केटिंग (Marketing) अभियान कितना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।
  • प्रबंधन परामर्श, वैज्ञानिक परामर्श, तकनीकी परामर्श, कंप्यूटर सिस्टम डिजाइन, और विज्ञापन/जनसंपर्क उद्योग कुछ सबसे लोकप्रिय स्थान हैं जहां आपको बाजार अनुसंधान विश्लेषकों के लिए अवसर मिलेंगे।

एक बाजार अनुसंधान विश्लेषक के रूप में करियर शुरू करने के लिए योग्यता की आवश्यकता है

उन्नत डिग्री वाले लोगों के लिए इस उद्योग में काम खोजना आसान है।

बाजार अनुसंधान विश्लेषक के रूप में काम करने के लिए, आपको विपणन, बाजार अनुसंधान, सांख्यिकी, कंप्यूटर विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान, व्यवसाय प्रशासन, संचार, या संबंधित क्षेत्र में कम से कम स्नातक की डिग्री की आवश्यकता होती है।

प्रबंधकीय पदों के लिए कभी-कभी व्यवसाय प्रशासन (एमबीए) या संबंधित क्षेत्र में मास्टर डिग्री की आवश्यकता होती है। योग्यता प्रदर्शित करने के लिए उपयुक्त निकाय द्वारा प्रमाणन की आवश्यकता नहीं है, लेकिन दृढ़ता से प्रोत्साहित किया जाता है।

Market Research Me Career kaise banaye- Career Scope and Jobs.

Career in Market Research- क्या आप मार्केट रिसर्च (बाजार अनुसंधान) में कैरियर बनाना चाहते हैं। क्या आप Market Research Me Career kaise banaye इसके बारे में जानकारी चाहते हैं। अगर आप इस फील्ड में कैरियर बनाने के उत्सुक हैं तो हम आपको इस पोस्ट में मार्किट रिसर्च के बारे में डिटेल में बताएंगे। जिससे आप इस इंडस्ट्री के बारे में सही तरह से जान सकेंगे और अपने Career के लिए सही निर्णय ले सकेंगे।

इस आर्टिकल में हम आपको Market रिसर्च में Career Scope और इसमें जॉब की संभावनाओं पर पर नजर डालेंगे साथ ही इस फील्ड में आने के लिए कौन सा Course करना चाहिए, कोर्स के लिए बेस्ट College कौन से हैं। इन सभी पहलुओं पर हम चर्चा करेंगे।

Market Research Me Career kaise banaye

मार्किट रिसर्च अनेक लोगों का पसंदीदा कैरियर ऑप्शन है। इसमें कैरियर बनाने के लिए कैंडिडेट को किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन होना चाहिए। इसके बाद इस फील्ड में MBA, मास्टर ऑफ मार्केटिंग रिसर्च या पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मार्केटिंग रिसर्च एंड डेटा एनालिसिस जैसे कोर्स कर किये जा सकते हैं। हालांकि 12 वीं के बाद इस फील्ड में BBA किया जा सकता है।

सोशियोलॉजी, मार्केट रिसर्च कैसे करें? साइकोलॉजी, मास कम्युनिकेशन जैसे डिग्री धारक भी इस फील्ड में कदम रख सकते हैं। इस सेक्टर में आप शुरुआत में 20 से 30 हजार तक सैलरी पा सकते है। अनुभव के साथ- साथ सैलेरी में भी इजाफा होता जाट है।

Career Scope in Market Research

आज के समय मे Market Research में काफी बेहतरीन कैरियर की संभावनाएं मौजूद हैं। वर्तमान समय मे ऐसा कोई भी फील्ड नही है, जिसमे Market Researcher की जरूरत न होती हो। इस सेक्टर में कैरियर की संभावनाओं का अंदाजा आप ऐसे लगा सकते है कि अगर कोई कंपनी अपना प्रोडक्ट लांच करना चाहती है तो वह सबसे पहले मार्किट रिसर्च करवाती है कि उसके Product के बारे में उपभोक्ताओं की क्या रॉय या सोच है।

विभिन्न प्राइवेट और सरकारी कंपनियों में Market Researcher की नियुक्ति की जाती है। सरकारों को भी किसी भी अपनी नीति और योजनाओं, मुद्दों के बारे में आम जनता की राय जानने के लिए मार्केट रिसर्चर का सहारा लेना पड़ता है। Educational Institute, मार्केटिंग संगठनों, मल्टीनेशनल कंपनियों में भी काफी Jobs के अवसर उपलब्ध हैं।

आज के समय मे Media का दायरा काफी विस्तृत हो चुका है। ऐसे में इन जगहों पर भी Market Researcher या रिसर्च एग्जीक्यूटिव की जरूरत होती है। अगर आप गौर करें तो चाहें कोई प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी हो या Service प्रोवाइड करवाने वाली कंपनी हो हर जगह Market Research एक्सपर्ट की डिमांड रहती है।

Career option in Market Research

प्रोजेक्ट मैनेजर
सीनियर रिसर्च एग्जीक्यूटिव
रिसर्च एग्जीक्यूटिव
ट्रेनी रिसर्च एग्जीक्यूटिव
ऑपरेशन सुपरवाइजर
क्लाइंट प्रोजेक्ट रिसर्च मैनेजर
मार्केटिंग मैनेजर
एसोसिएट डायरेक्टर
विजनेस डिवलेपमेंट हेड
बिजनेस डेवलोपमेन्ट एग्जीक्यूटिव
रिसर्च हेड
स्टेटिस्टिक्स
डेटा एनालिसिस एग्जीक्यूटिव
रिसर्च फील्ड एग्जीक्यूटिव

Market Research क्या है?

यह एक तरह से Marketing टेक्नीक है, जिसमे किसी भी नये प्रोडक्ट के बारे में उपभोक्ताओं से बातचीत कर अहम जानकारी प्राप्त की जाती है। मार्किट रिसर्च को आप इस तरह से भी समझ सकते हैं जैसे कि अगर कोई Company अपना नया उत्पाद Market में लाना चाहती है तो वह प्रोडक्ट को मार्किट में लाने से पहले एक विशेष रणनीति बनाती है।

फिर वह कंज्यूमर विहेवियर जानने की कोशिश करती है। मार्किट में नए प्रोडक्ट की मांग कैसे पैदा की जाए? क्या रणनीति हो कि वह उत्पाद लोग खरीदें। इसके साथ ही उनका उपभोक्ता वर्ग कौन है। कम्पटीटर की तुलना में प्रोडक्ट कैसा है, प्राइस, पैकेजिंग आदि की जानकारी एकत्र की जाती है।

मान लीजिए कि एक कोई भी कंपनी है, वह मार्किट में अपना फेस बोस लाना चाहती है तो इसके लिए वह कंपनी लोगों के बीच जाकर मार्किट रिसर्च यानी कि सर्वे करती है कि लोग किस तरह का फेसवॉश पसन्द कर रहे हैं । मार्केट रिसर्च कैसे करें? इसके बाद वह कंपनी Facewash मार्किट में लांच करती है। इसी तरह आज हर Sector में Market Reserach किया जाता है।

Market Researcher के कार्य

एक मार्किट रिसर्चर उपभोक्ताओं का बाइंग विहेवियर (खरीदारी की आदत) उसकी पसंद और नापसंद, प्रोडक्ट की कीमत, प्रोडक्ट की डिमांड और सेल इन सभी के आधार पर डेटा एकत्र करते हैं। डेटा के अनुसार उसका विश्लेषण करते है। इनके लिए उनको रिपोर्ट और ग्राफिक इलेस्ट्रेशन तैयार करने की जरूरत पड़ती है। जिससे कि उस सर्वेक्षण को आसानी से समझाया जा सके।

Market Research तीन स्टेप्स में किया जाता है। इसमें सबसे पहले रिसर्च आता है इसके बाद फील्ड वर्क किया जाता है और अंत मे डाटा का विश्लेषण किया जाता है।

Research- इसके अंतर्गत प्रोडक्ट या सर्विस की बाजार से जुड़ी समस्याओं को जानने की कोशिश की जाती है। इसके साथ ही कितने लोग प्रोडक्ट का यूज कर रहे है, अन्य लोग प्रोडक्ट को पसंद क्यों नही मार्केट रिसर्च कैसे करें? कर रहे हैं। लोगों की उस प्रोडक्ट के प्रति सोच या राय क्या है। इन सभी के बारे में डेटा एकत्र किया जाता है।

Field Work- फील्ड एग्जीक्यूटिव फोन, मेल या घर- घर जाकर उस प्रोडक्ट के बारे में आवश्यक deta एकत्रित करते हैं।

Data Anyalisis- जो डेटा सर्वेक्षण कर एकत्र किया गया है, अब उसका विश्लेषण कर रिजल्ट तक पहुचा जाता है।

Skills for Market Researcher

Marketing Research के फील्ड में कैरियर बनाने के लिए आपके अंदर विश्लेषण करने की क्षमता के साथ ही प्रेसर में काम करने क्षमता का भी होना जरूरी है। आकर्षक कम्युनिकेशन स्किल, आत्मविश्वास, टाइम मैनेजमेंट, टीम के साथ मिलकर काम करने की कला, सहनशीलता से क्लाइंट्स से बात करने जैसे गुण आपके अंदर होने चाहिए तो इस फील्ड में आपका स्वागत है।

Best College For Market Research Course

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट अहमदाबाद
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट लखनऊ
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट बंगलोर
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन दिल्ली
जमना लाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट मुम्बई
टाइम्स स्कूल ऑफ मार्केटिंग न्यू दिल्ली
नरसी मोनजी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज मुम्बई
डॉ भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी आगरा
मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन अहमदाबाद

हमे उम्मीद है कि Market Research Me Career kaise banaye ये आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर आपको Career and Course के बारे में किसी भी तरह की कोई जानकारी चाहिए तो आप निःसंकोच हमे कमेंट करें।

What is Marketing Research जानिए क्या होता है मार्केटिंग रिसर्च ?

मार्केटिंग रिसर्च को किसी भी टेक्निक या प्रैक्टिस के सेट के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसका उपयोग कंपनियां अपने लक्षित या टार्गेटेड मार्किट को बेहतर ढंग से समझने के वास्ते तथा उस बावत जानकारी एकत्र करने के लिए करती हैं.

हेलो दोस्तों, जाहिर सी बात है कि अगर आप किसी भी बिज़नेस को शुरू करने जा रहे हैं तो आपको पहले उसके बारे में सब कुछ जानना चाहिए. अलग अलग बिज़नेस की मार्किट भी अलग अलग होती है. तो आपको अपने बिज़नेस को करने से पहले उसकी मार्किट को समझना पड़ेगा. मार्केटिंग रिसर्च को किसी भी टेक्निक या प्रैक्टिस के सेट के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसका उपयोग कंपनियां अपने लक्षित या टार्गेटेड मार्किट को बेहतर ढंग से समझने के वास्ते तथा उस बावत जानकारी एकत्र करने के लिए करती हैं. विभिन्न संगठन मार्केटिंग रिसर्च से प्राप्त डेटा का उपयोग अपने उत्पादों को अधिक श्रेष्ठ बनाने, अपने UX को बढ़ाने तथा अपने ग्राहकों को बेहतर उत्पाद पेश करने के लिए करते हैं.

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Waw! Just one step away to get free demo classes.

दरअसल, मार्केटिंग रिसर्च का उपयोग आर्गेनाइजेशन्स यह निर्धारित करने के लिए करते हैं कि उपभोक्ता क्या चाहते हैं. तथा किसी उत्पाद या सेवा की विशेषताओं पर उपभोक्ता किस प्रकार की प्रतिक्रिया करते हैं. Click here to buy a course on Digital Marketing- Digital Marketing Specialization Course


मार्केटिंग रिसर्च विधि के 4 मापदण्ड

सामान्य तौर पर मार्केटिंग रिसर्च विधि के 4 मेथड होते हैं - सर्वे, इंटरव्यू, कस्टमर ऑब्जरवेशन तथा फोकस ग्रुप. आप चाहें तो इनमें से केवल एक या फिर एक मार्केट रिसर्च कैसे करें? से अधिक तरीकों पर भी रिसर्च कर सकते हैं. आइए जानते हैं इन सभी मेथड्स के बारे में -


1. सर्वेक्षण, बिज़नेस की इंडस्ट्री को समझने की कोशिश

आप जिस बिज़नेस को करने जा रहे हैं पहले उसकी इंडस्ट्री को समझना जरूरी है. इसके लिए आपको सबसे पहले इंडस्ट्री का ट्रेंड, इंडस्ट्री की मार्केट वैल्यू, इंडस्ट्री में पिछले 5 सालों का बदलाव और कंपीटिशन आदि को देखना चाहिए. बिज़नेस की इंडस्ट्री को समझने के लिए पीओएस पर ऑनलाइन प्रश्नावली या ऑन-स्क्रीन सर्वे के माध्यम से रिसर्चर्स प्रतिक्रियाएँ और डेटा एकत्र करते हैं.

Promotional Ad For Article

इन सर्वेक्षणों में क्लोज-एंडेड और ओपन-एंडेड प्रश्न होते हैं. यह एक लोकप्रिय और सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली मार्केटिंग रिसर्च की विधि है.


2. इंटरव्यू

आमने-सामने या व्यक्तिगत साक्षात्कार (personal interviews) मार्केटिंग रिसर्च की विधि का एक पारंपरिक तरीका है. प्रतिक्रियाएं या रिस्पोंस एकत्रित करने का यह एक धीमा और थोड़ा ज्यादा मँहगा तरीका है. मार्केटिंग रिसर्च करने वाले रिसर्चर्स बड़े पैमाने पर प्रतिक्रियाएँ एकत्र करने के लिए इस पद्धति को ज्यादा पसंद नहीं करते हैं. इंटरव्यू व्यक्तिगत साक्षात्कार के रूप में या फिर टेलीफोन पर भी आयोजित किए जाते हैं.


3. फोकस ग्रुप्स

फ़ोकस ग्रुप्स या ऑनलाइन फ़ोकस ग्रुप्स में कई उत्तरदाता शामिल होते हैं जो किसी विशेष विषय पर चर्चा में भाग लेते हैं. एक रिसर्चर अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए फोकस समूह आयोजित करता है. फोकस समूह का मुख्य उद्देश्य किसी विशेष विषय पर रुचि के मुताबिक विभिन्न लोगों के बीच संवाद आयोजित करना है. इंटरव्यू के विपरीत, फोकस ग्रुप्स के सदस्यों को एक दूसरे के साथ बातचीत करने और एक दूसरे को प्रभावित करने की अनुमति रहती है.


4. कस्टमर ऑब्जरवेशन

हालाँकि कस्टमर ऑब्जरवेशन एक लोकप्रिय मेथड नहीं है तथा यह व्यापक रूप से इस्तेमाल नहीं किया जाता है तथापि यह विधि एक सबसे सहज प्रतिक्रिया देने वाली विधि है. ग्राहक, प्रोडक्ट या सेवा के साथ कैसे जुड़ते हैं, इस बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए आर्गेनाइजेशन्स, रिसर्च कस्टमर ऑब्जरवेशन सत्र का आयोजन करती हैं. अपने उत्पादों और सेवाओं को बेहतर बनाने के इच्छुक रिसर्चर के लिए लोगों के व्यवहार संबंधी दृष्टिकोण से प्रतिक्रिया मिलना एक प्रभावशाली युक्ति होता है.
चाहे कोई भी बिज़नेस हो ग्राहक सबसे ज्यादा मायने रखते हैं. अतः इसके लिए आपको सबसे पहले अपने ग्राहक को ढूंढना होगा. यह जानना होगा कि आपके बिज़नेस के लिए किस तरह के ग्राहक सही हैं, वे कहाँ मिलेंगे, वे क्या पसन्द कर सकते हैं क्या नहीं इस प्रकार की सारी बातें आपको देखनी मार्केट रिसर्च कैसे करें? होंगी.


निष्कर्ष

इस प्रकार आर्गेनाइजेशन्स, मार्केटिंग रिसर्च के उपरोक्त अलग अलग विधियों का प्रयोग करके अपने बिजनस के अंदर कुछ गोल्स सेट करते हैं ताकि उनको एक अनुकूल रास्ता मिल सके कि आखिर आपको जाना कहाँ है.

रेटिंग: 4.82
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 158